Category: Uncategorized

ग्लोबल वार्मिंग का बढ़ता खतरा

क्या है ग्लोबल वार्मिंग? जैसा कि नाम से ही साफ है, ग्लोबल वार्मिंग धरती के वातावरण के तापमान में लगातार हो रही बढ़ोतरी है। हमारी धरती प्राकृतिक तौर पर सूर्य की किरणों से उष्मा ( हीट, गर्मी ) प्राप्त करती है। ये किरणें वायुमंडल ( एटमास्पिफयर) से गुजरती हुईं धरती की सतह (जमीन, बेस) से […]

जनसंख्या विस्फोट: एक समस्या

विश्व की जनसंख्या में निरन्तर वृद्धि होती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट में यह बात स्पष्ट रूप से स्वीकार की गई है कि विश्व की जनसंख्या वृद्धि दर में जो कमी आई है, उसका कारण चीन सरकार द्वारा उठाए गए कारगर कदम हैं। चीन की सरकार यह भतीभँति जानती है कि जनसंख्या को रोक […]

प्रदुषण एक समस्या

बढ़ता प्रदूषण वर्तमान समय की एक सबसे बड़ी समस्या है, जो आधुनिक और तकनीकी रूप से उन्नत समाज में तेजी से बढ़ रहा है। इस समस्या से समस्त विश्व अवगत तथा चिंतित है। प्रदूषण के कारण मनुष्य जिस वातावरण या पर्यावरण में रहा है, वह दिन-ब-दिन खराब होता जा रहा है। कहीं अत्यधिक गर्मी सहन […]

प्लास्टिक,पृथ्वी के लिए अभिशाप

आज भले ही हम पर्यावरण को बचाने के लिए तमाम अभियान चला रहे हैं पर जब तक हम प्लास्टिक का इस्तेमाल करना बंद नहीं करेंगे तब तक भूल ही जाइए कि धरती ढंग से सांस ले पाएगी. जानते है प्लास्टिक से होने वाले नुकसान:- 1. पृथ्वी के लिए सबसे घातक पॉलि‍थीन है क्योंकि इसके इस्तेमाल […]

बल योन शोषण

बाल यौन शोषण हमारे समाज द्वारा सामना की जाने वाली सामाजिक बुराईयों में से सबसे ज्यादा उपेक्षित बुराई है। इसकी उपेक्षा के कारण भारत में बाल यौन शोषण की घटनाएं बहुत तेजी से बढ़ रही है। समाज और बच्चे के लिए बाल यौन शोषण कोई नयी समस्या नहीं है। ये एक वैश्विक समस्या है। ये […]

बच्चों में तनाव का कारण …..पढाई

ज्ञान केवल शिक्षा के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है।यह बिना कहे ही जाना जा सकता है कि समानता बनाने तथा आर्थिक स्थिति के आधार पर बाधाओं तथा भेदभाव को दूर करने के लिए शिक्षा बहुत आवश्यक है। राष्ट्र की प्रगति और विकास सभी नागरिकों की शिक्षा के अधिकार की उपलब्धता पर निर्भर करता […]

गुम होता बचपन

बचपन एक ऐसी उम्र होती है, जब बगैर किसी तनाव के मस्ती से जिंदगी का आनन्द लिया जाता है। नन्हे होंठों पर फूलों सी खिलती हँसी, वो मुस्कुराहट, वो शरारत, रूठना, मनाना, जिद पर अड़ जाना ये सब बचपन की पहचान होती है। सच कहें तो बचपन ही वह वक्त होता है, जब हम दुनियादारी […]

नृत्य एक थेरेपी

आज के युग में डांस का उपयोग लोग थेरेपी के तोर पे भी करने लगे | क्योंकि इसमें हमारी पूरे शरीर की कसरत हो जाती है तोह लोगों का मानना है की हम डांस को अपने आप को तंदरुस्त व् मजबूत रक्खणे क लिए भी कर सकते है | आज क युग में नृत्य का […]